Yeshu Naam & What a Beautiful Name (Cover) Lyrics: 2019

Yeshu Naam & What a Beautiful Name

 

 

Pre Chorus:

Jis Naam Mein

(the name)

HaiZindagi

(that has life)

Vo Naam Hai

(is the name)

YeshuMashih

(jesus christ)

Jis Naam Mein

(the name)

HaiBandagi

(that leads us to worship)

 

Vo Naam Hai

(is the name)

YeshuMashih

(jesus christ)……………………….. x2

Chorus 1:

Yeshu Naam………………………… x3

(the name jesus)

Ki Jai

(be praised)

 

Bridge:

Death could not hold you

The veil tore before you

You silenced the boast of

Sin and grave

The heavens are roaring

The praise of your glory

For you are raised to Life again

You have no rival

You have no equal

Now and forever

God you reign

Yours is the kingdom

Yours is the glory

Yours is the name

Above all names

Chorus 2:

What a powerful name it is ……………………………….x2

The name of jesus christ my king

What a powerful name it is

Nothing can stand against

What a powerful name it is

The name of jesus

Chorus 1:

Yeshu Naam…………………………….. x3

(the name jesus)

Ki Jai

(be praised) Ho

 

MAIN MANDIR HOON TERA..| Anil Kant | Hindi Christian Song Lyrics

 Main Mandir Hoon Tera

Artist: Rishabh Kant, Shreya Kant, Reena Kant & Anil Kant

 

Lyrics: Anil Kant

Composed By: Anil Kant

Music: Anil Kant

Recorded By: Trinity Studios. Pvt Ltd.

Album:Main Mandir Hoon Tera

 

Lyrics :-

 

Meri saans main teri saans hai,
Meri rooh mein paak rooh…………………………………….x2

Meri aankh main teri aankh hai,
Mere haath main tera haath.

Tu chhuye, main chhuoon.
Tu ruke main rukoon,
Tu kahe jo wahi main karoon.

Tu chhuye main chhuoon,
Jo kahe woh karoon,
Rooh man jism sab saup doon.

—————————————————————–

MAIN MANDIR HOON TERA..  ( Prabhu Ka Mandir Hoon, Pavitra Mandir Hoon )

Meri marzi ab nahin, teri hogi razaa,  x2

ZINDA GHAR HOON TERA..!!!     X2
yahi ban gaya, mera saara jeevan, aye khuda, aye khuda..

——————————————————————————
Tera jalaal mujh main dikhe,
Surat teri main banoo.

Jab rooh tera, hain mujh main toh,
aazad hoon paak rooh.
aisa bartan banoo jisme tu hain bahra,
jhoot mit jaaye kar de kharaa.
main khudawand mein hoon, ho gayaa hoo naya
jo purana tha jaata  rahaa.
                                      Main Mandir…….
Aye madadgaar, tujhse hai pyar.
Aye paak rooh,  paak rooh.
Sikahla mujhe, apna kalaam,
Dikhla mujha rah tu.
Tune mujhko chuna, mujh main rehne lagaa,
Aisa mujah pe karam hai kiya.
Paapi itna bada, jo gunahgaar tha,
Apna beta mujhe kar diya.

Main Mandir…….

 

 

ज़िन्दा है प्रभु हमारा Zinda Hain Prabhu Hamara gospel song lyrics and guitar, keyboard chord

ज़िन्दा है प्रभु हमारा

 

[E]ज़िन्दा है प्रभु [B]हमारा,
[A]ज़िन्दा है प्रभु हमारा[E]
जीवन देता है, [A]शांति देता है
[E]वो ही हमारा,[A] राजा है,
[F#m]हम सब उसके [A]सेवक[B] हैं[E]

[E]भजो हर दम यीशु नाम,
[A]शैतां को कर दो नाकाम
[E]उस पर डालो बोझ तमाम
[A]जीवन होगा तब आसान
[E]चिंता हमारी वो [A]करता है
[F#m]सारे दुखों को [A]हरता[B] है[E]

जिन्दा है…

[E]हर पर रहता यीशु साथ,
[A]क्या है फिर चिंता की बात
[E]कितनी भी हो काली रात,
[A]यीशु दिखलायेगा राह
[E]वो सच्चा चर[A]वाहा है,
[F#m]तृप्त हमें वो [A]करता[B] है[E]

जिंदा है प्रभु…

[E]यीशु है इतना बलवान,
[A]कोई नहीं है उसके समान
[E]शैतां के सब चालों का,
[A]किया है उसने काम तमाम
[E]यीशु मुक्ति [A]दाता है,
[F#m]पाप क्षमा सब [A]करता[B] है[E]

ज़िंदा है ………..

Zinda Hain Prabhu Hamara

 

[E]Zinda hain Prabhu [B]hamara
[A]zinda hain Prabhu hamaara[E]
jeevan deta hain ,[A]shanti deta hain,
[E]woh hi hamara [A]raja hain
[F#m]hum sab uske [A]sewak[B] hei[E]

[E]bhajo har dam Yeshu naam,
[A]shaitan ko kar do nakaam,
[E]us par dalo bojh tamaam
[A]jeevan hoga tab aasaan,
[E]chinta hamari vo [A]karta hai
[F#m]saare dukhon ko [A]harta[B] hei[E]

zinda hai…

[E]har pal rahta Yeshu saath,
[A]kya hai phir chinta ki baat
[E]kitni bhi ho kaali raat
[A]Yeshu dikhlayega raah
[E]woh sachcha char[A]waha hai
[F#m]tript hame vo [A]karta[B] hai[E]

zinda hai…

[E]Yeshu hai itna balwaan,
[A]koi nahi hai uske samaan,
[E]shaitan ke sab chalon ko
[A]kiya hai usne kaam tamaam
[E]Yeshu mukti[A]data hei,
[F#m]paap kshama sab [A]karta[B] hei[E]

zinda hai…………..

 

Parmeshvar Ke Do Dehdharano ke Mayane परमेश्वर के दो देहधारणों के मायने Hindi Worship Songs – Lyrics

Hindi Worship Songs –

Parmeshvar Ke Do Dehdharano ke Mayane

(परमेश्वर के दो देहधारणों के मायने)

  • Artist: Hindi Worship Songs
परमेश्वर के दो देहधारणों के मायने
व्यवस्था युग के अंत के बाद, अनुग्रह के युग में,
अपना उद्धार कार्य आरम्भ किया परमेश्वर ने।
पहले देहधारण ने मानव को पाप से छुड़ाया
यीशु मसीह के देह द्वारा।
क्रूस से बचाया यीशु ने उसे पर, उसका शैतानी स्वभाव बना रहा।
अंत के दिनों में,
परमेश्वर मानवजाति को शुद्ध करने के लिए न्याय करता है।
यह होने के बाद ही
वो अंत करेगा अपना उद्धार कार्य और करेगा विश्राम, विश्राम।
रहता है मनुष्यों के बीच, उनके दुःख महसूस करता
और अपने वचनों का उपहार उन्हें देता है।
मनुष्य केवल परमेश्वर के देहधारी शरीर को ही स्पर्श कर सकता है।
उसके द्वारा उद्धार और सभी वचनों और सत्य की समझ, पा सकता है।
दूसरा देहधारण, मानव को शुद्ध करने के लिए काफी है,
इस तरह अपने देहधारण के मायने और सभी काम पूरे कर लेगा।
देह में परमेश्वर के काम का अब अंत होगा।
वह फिर से देहधारण नहीं करेगा, नहीं करेगा, नहीं करेगा।
इस देहधारण के बाद,
उद्धार और देह में उसके कार्य, खत्म हो जायेंगे।
क्योंकि वो मनुष्यों को छाँट,
अपने चुने हुओं को हासिल कर चुका होगा।
जिन्हें मिल गयी माफ़ी, दूसरा देहधारण उन्हें आज़ाद कर देगा।
स्वभाव बदलेंगे और साफ़ हो जाएंगे।
शैतान के प्रभाव से छूटकर, वे परमेश्वर की गद्दी को लौटेंगे।
शुद्ध होने का यही है तरीका,
हाँ, पूरी तरह शुद्ध होने का बस यही है तरीका,
बस यही है तरीका।
“वचन देह में प्रकट होता है” से

Masih Ka Rajya Logon मसीह का राज्य लोगों Hindi Worship Songs -Lyrics

  • Artist: Hindi Worship Songs
धर्मी सूरज जिस तरह उगता है,
अंत के दिनों में, सर्वशक्तिमान परमेश्वर पूरब में,
उसी तरह प्रकट हुआ है;
इंसान ने देखी है सच्ची रोशनी उभरते हुए।
धर्मी और प्रतापी, प्रेमी और दयालु परमेश्वर
दीनता से छिपकर इंसानों के बीच,
सत्य प्रसारित कर रहा, बोल रहा और काम कर रहा है।
सर्वशक्तिमान हमारे रूबरू है।
जिस परमेश्वर की प्यास थी तुम्हें, जिस परमेश्वर का इंतज़ार था मुझे,
आज हकीकत में सामने हमारे वो आ गया है।
हमने सच की तलाश की, हमने धर्मिता की चाह की;
इंसानों के बीच है आज, सच्चाई और धर्मिता।
तुम्हें प्यार है परमेश्वर से, मुझे प्यार है परमेश्वर से;
इंसान भरा है, नई उम्मीदों से।
व्यवहारिक देहधारी परमेश्वर को, मानते हैं लोग, पूजती है दुनिया।
सत्य व्यक्त करता है सर्वशक्तिमान परमेश्वर, लेकर आता है न्याय,
और उजागर करता है, परमेश्वर का धर्मी स्वभाव।
न्याय, ताड़ना और वचनों के परीक्षण से
वो जीतता है विजयी लोगों के समूह को, और बनाता है पूर्ण उन्हें।
परमेश्वर के रोषपूर्ण, प्रतापी वचन
इंसान की अधर्मिता का न्याय कर, बनाते हैं निर्मल उसे,
और अंधकार के युग का, विनाश करते हैं पूरी तरह।
सत्य और धर्मिता की, सत्ता है धरती पर।
दुनिया ख़ुश है, लोग आनंद मनाते हैं;
लोगों के मध्य आगमन हुआ है, परमेश्वर के मंदिर का।
दुनिया झूमती है, देश पूजते हैं,
परमेश्वर की इच्छा पूरी हो रही है धरती पर।
दुनिया ख़ुश है, लोग आनंद मनाते हैं;
लोगों के मध्य आगमन हुआ है, परमेश्वर के मंदिर का।
दुनिया झूमती है, देश पूजते हैं,
परमेश्वर की इच्छा पूरी हो रही है धरती पर।
मसीह का राज्य लोगों के मध्य साकार हुआ है।
“मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना” से

Insaan Sabhei Chizon ke (इंसान सभी चीज़ों के) Hindi Worship Songs Lyrics

इंसान सभी चीज़ों के बीच रहता है,
उसे शैतान ने दूषित किया, धोखा दिया है।
मगर फिर भी इंसान, हवा को छोड़ नहीं सकता है।
मगर फिर भी इंसान, पानी को छोड़ नहीं सकता है।
और तमाम चीज़ों को जिसे परमेश्वर ने बनाया है।
इंसान, परमेश्वर की बनाई इस जगह पर ही, रहता है, बढ़ता है, रहता है।
इंसान का सहज-ज्ञान बदला नहीं है।
अब भी इंसान देखने-सुनने के लिये, आंख-कान पर ही भरोसा करता है,
दिमाग़ से सोचता है, दिल से समझता है,
पैरों से चलता है, हाथों से काम लेता है।
परमेश्वर ने जो दिया इंसान को सहज-ज्ञान,
ताकि पा सके वो उसका प्रावधान, वो बदला नहीं।
इंसान का हुनर, जिससे वो परमेश्वर को,
सहयोग करता है, इंसानी फ़र्ज़ निभाता है, वो बदला नहीं है।
उसकी आत्मिक ज़रूरतें बदली नहीं हैं।
अपने मूल को तलाशने की चाहत बदली नहीं है।
इंसान की ये लालसा, कि परमेश्वर उसे बचाए,
बदली नहीं है। बदली नहीं है।
परमेश्वर के अधिकार के अधीन जो रहता है,
शैतान के हाथों, ख़ूनी तबाही जिसने झेली है, ये हालत है उस इंसान की।
इंसान सभी चीज़ों के बीच रहता है, उसे शैतान ने दूषित किया।
“वचन देह में प्रकट होता है” से

Haasil Kar Sakata Hai (हासिल कर सकता है) | Hindi Worship Songs Lyrics

Hindi Worship Songs –

Artist: Hindi Worship Songs    

Haasil kar sakata hai

(हासिल कर सकता है)

 हासिल कर सकता है

न्याय करने में परमेश्वर के कार्य की मंशा नहीं
है एक या दो शब्दों में
इंसान के पूरे स्वभाव को स्पष्ट करना,
पर धीरे-धीरे इंसान को प्रकट करना, निपटना,
और उसकी काँट-छाँट करना।
बदला ना जा सकता ऐसा व्यवहार आम शब्दों के लिए,
पर उस सच्चाई के लिए, जो इंसान की सीमा के है पार।
इसी कार्य को न्याय मानते हैं,
यही वो न्याय जिसकी बदौलत इंसान मानते हैं दिल में,
ज़ुबां पर, भीतर, बाहर आज्ञा परमेश्वर की,
और जान पाते हैं सच में उसे।
न्याय के कार्य से ही जान पाते हैं
मनुष्य परमेश्वर का असली चेहरा
और अपने विद्रोह की सच्चाई।
सिखाता है यही परमेश्वर के कार्य का इरादा और मंशा
सिखाता है यही उन राज़ को जो इंसान नहीं समझता।
इसकी मदद से जानता वो अपने दूषण और बदसूरती को।
इसी कार्य को न्याय मानते हैं,
यही वो न्याय जिसकी बदौलत इंसान मानते हैं दिल में,
ज़ुबां पर, भीतर, बाहर आज्ञा परमेश्वर की,
और जान पाते हैं सच में उसे।
न्याय के कार्य के ज़रिए ही प्राप्त होता है
परमेश्वर के कार्य का प्रभाव।
दरअसल सार है ऐसे कामों का,
प्रकट करना सच्चाई, पथ, और जीवन ईश्वर का,
सामने उनके जो रखते हैं आस्था उस पर।
इसी कार्य को न्याय मानते हैं,
यही वो न्याय जिसकी बदौलत इंसान मानते हैं दिल में,
ज़ुबां पर, भीतर, बाहर आज्ञा परमेश्वर की,
और जान पाते हैं सच में उसे।
“वचन देह में प्रकट होता है” से

Dehadhaaree Parameshvar Sabase Priy Hai (देहधारी परमेश्वर सबसे प्रिय है) Hindi Worship Songs Lyrics

 

Dehadhaaree Parameshvar Sabase Priy Hai

(देहधारी परमेश्वर सबसे प्रिय है)

देहधारी परमेश्वर सबसे प्रिय है
परमेश्वर ने देह बनकर, इंसानों के बीच रहकर,
देखी उनकी बुराई, और हालात ज़िंदगी के।
देहधारी परमेश्वर ने महसूस कीं इंसान की मजबूरियां,
इंसान की दयनीयता, इंसान का दुख-दर्द।
देह में परमेश्वर अपने सहज-ज्ञान से, हो गये ज़्यादा दयालु
मानव की हालत के लिये, हो गये ज़्यादा चिंतित अपने भक्तों के लिये।
अपने भक्तों के लिये।
अपने भक्तों के लिये।
प्रभु जिनका प्रबंधन करना और जिनको बचाना चाहते हैं,
क्योंकि अपने दिल में वो, उनको बहुत चाहते हैं।
उनके लिये वो ही सबसे ऊपर हैं।
प्रभु ने बड़ी कीमत चुकाई है।
कपट भोगा है और चोट खाई है।
मगर हारते नहीं हैं परमेश्वर, काम करते हैं निरंतर,
ना कोई शिकवा, ना पछतावा कोई।
देह में परमेश्वर अपने सहज-ज्ञान से, हो गये ज़्यादा दयालु
मानव की हालत के लिये, हो गये ज़्यादा चिंतित अपने भक्तों के लिये।
अपने भक्तों के लिये।
अपने भक्तों के लिये।
“वचन देह में प्रकट होता है” से