AAO JHUM KE CHALE MILAN KI RAH PAR

आओ झूम के चले मिलन की राह पर,
कहीं तो मिल जायेगी साथी प्यार की डगर
कहीं तो मिल जायेगी साथी प्यार की डगर

1.खुदा प्यार है और प्यार है बंदगी,
बिना प्यार के कुछ भी नही है जिंदगी
ज्योत प्यार की दुनियॅंा में फैलाये जा,
हरदम प्राणी गीत प्रभु के गाये जा 2

2.वो आया दुनियाॅं मे तेरे वास्ते,
तू ना बदला अब तक अपने रास्ते
छोड दे झूटी दुनियाॅं के झूठे भरम
अब भी प्राणी करले कुछ अच्छे करम 2

3.है कोई ऐसा जो सूली पर जान दे
खुद को मिटा कर दुनियाॅं को आराम दे
आओ उठाये हम अपनी सलीब को
करे याद यीषु की दास्तां सूली को 2

4 एक इंसा दूजे को समझ जब पायेगा
अमन चैन आराम जमीं पर आयेगा
कर कुछ ऐसा तू वतन के वास्ते
जिससे खुल जाये बंद प्यार के रास्ते 1
और जमाना सदियों तुझको याद करे 1